Manufacturing Process Of Acrylonitrile In Hindi (Petrochemical)

Petrochemical

Manufacturing Process Of Acrylonitrile In Hindi 

Introduction

Acrylonitrile एक organic compound है और इसका  formula CH2CHCN है। यह एक colorless के साथ-साथ volatile liquid भी होता है। इसमें लहसुन या प्याज की तरह तीखी गंध होती है यह Polyacrylonitrile जैसे उपयोगी प्लास्टिक के निर्माण के लिए एक महत्वपूर्ण Monomer है

Properties

Chemical Formula –  C3H3N

Molar Mass –              53.064 g·mol−1

Melting Point –           -84 C

Boiling Point –             77 C

Production Method

Acrylonitrile का  production catalytic ammoxidation of propylene के द्वारा होता है इसे SOHIO process के नाम से भी जानते है।

Chemical Reaction

 

 

Process Of Production

सबसे पहले हम Propylene+propane, Ammonia , Air , steam को Compressed करके 1.5  – 3 atms Pressure पर Fluidized catalyst bed reactor मे feed  करते है जहाँ पर Catalyst के रुप मे Mo-Bi (Molybdenum Bishmuth ) spherical catalyst मौजूद होते है। Reactor के Temp. को 400-500 C  तक maintain रखते है। Reactor मे Cyclone separator भी मौजुद होते है यह Fluidization Process के दौरान जिसका contact timing कुछ ही सेकेण्ड का होता है इस Process के बाद catalyst and Product gases को separate करने का काम करता है After reaction,    product vapour को Water Scrubber मे भेजते है। Water Scrubber मे Propane and Nitrogen absorb नही होते है यह Water Scrubber के Top से निकल जाते है Water Scrubber के Bottom Product मे water absorb के बाद acrylonitrile, acetonitrile and other heavy ends बच जाते है इसको Fractinator/ Product Splitter मे भेजते है। Product Splitter के Top से Acrylonitrile + Heavy ends + HCN (hydrogen cyanide) + light ends प्राप्त होते है इसके Bottom से हमे acetonitrile + water + heavy ends प्राप्त होते है।

Product Splitter के Top वाले Product को Extractive Distillation/Azeotropic column मे भेजते है जहाँ पर Water जो absorb हुआ था उसको Exractant(Solvent) के रुप मे use  किया जाता है Azeotropic distillation column के Top portion से निकलने वाले vapour को Partially condense किया जाता है vapour मे HCN (Hydrogen cyanide) की मात्रा होती है इसे Out (separate) कर देते है बाकि को Azeotropic column मे Reflux कर देते है  और Bottom से  निकला हुआ Product जिसमे Acrylonitrile है इसे Product Purification Unit मे भेजते है जहाँ पर 99.5% Pure Product  Top से प्राप्त होता है और Bottom से कुछ Heavy ends मिलते है।

Similarly , Product Stripper से प्राप्त Bottom Product को same process की तरह Treat करते है जिस के बाद Product Purification Unit से Acetonitrile product प्राप्त होता है

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Uses Of Acrylonitrile

  1. यह acryalmide and acrylic acid का manufacturing मे उपयोग होता है।
  2. यह एक Important material है जो plastic industry के लिए use किया जाता है।
  3. यह एक valueable monomer है जिसका use nitrofiber and nitrile rubber बनाने मे किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *